Tue. Sep 27th, 2022

आवंले के बारे में कथा ही उसके गुणों को बताती है कि बूढ़े च्यवन ऋषि जिस चीज को खाकर फिर से जवान हुए वह आवंले से बनायी गयी चटनी थी । तभी तो आंवले के गुणों वाली शक्तिशाली चटनी का नाम आज चारों ओर गूंज रहा है-“च्यवनप्राश” । आंवले के गुणों को महर्षि सुश्रुत तथा महर्षि चरक जी ने भी स्वास्थ्य के लिए अति लाभदायक बताया है तो फिर आप भी इसके गुणों को जान लें।

Health Benefits of Amla

  • आम कमजोरी को दूर करने के लिए
  • स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए
  • नजर की कमजोरी
  • दिल और दिमाग की कमजोरी
  • स्त्री रोगों के लिये
  • सुन्दरता के लिए
  • सफेद पानी (श्वेत प्रदर)
  • हाई ब्लड प्रेशर के लिए
  • शूगर (मधुमेह) के लिए
  • बालों का झड़ना रोकने के लिए
  • गर्भावस्था की उल्टियाँ मे
  • गठिया रोग के लिये
  • पत्थरी
  • नकसीर
  • दाँतो का कीड़ा और दर्द
  • खांसी
  • कब्ज
  • खूनी बवासीर
  • दिल का दौरा
  • पेचिश तथा संग्रहणी रोग

आम कमजोरी को दूर करने के लिए

बारीक पिसा हुआ आवंला दो चम्मच शहद मिलाकर चाट-चाटकर ऊपर से गाय का दूध एक गिलास पीयें । यदि चालीस से साट दिन तक हर रोज सुबह उठकर आप इसे लेते हैं तो आपकी हर प्रकार की कमजोरी दूर हो जाएगी । आपका शरीर चुस्त तथा फुर्तीला रहेगा, नया खून बनेगा।

स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए

जिन लोगों की स्मरण शक्ति कमजोर पड़ गयी है उन्हें सुबह गाय के दूध के साथ दो आंवले का मुरब्बा खाना चाहिए । सदा रहे जवान जो लोग अपने आपको सदा जवान रखना चाहते हैं, शारीरिक शक्ति बढ़ाना चाहते हैं, उन्हें सुबह उठकर ताजे आंवले का रस पीना चाहिए।

नजर की कमजोरी

जिन लोगों की नजर कमजोर है उनके लिए आंवला का प्रयोग इस प्रकार से करना लाभदायक है एक गिलास पानी लेकर उसमें छह ग्राम सूखे आंवले रात को भिगोकर खुली हवा में कपड़ा बाँधकर मिट्टी के बर्तन में रख दें। सुबह उठकर उस पानी को छानकर, उससे अपनी आँखों पर छींटें मारें, इस प्रकार 60 दिन तक करते रहें तो आपकी आँखों के सारे रोग दूर हो जायेंगे, नजर तेज हो जाएगी ।

दिल और दिमाग की कमजोरी

दोपहर और रात को आधा भोजन करने के बाद यानी भोजन के बीच में ताजा कच्चे आंवले का रस 20 से 25 ग्राम तक पानी में डाल कर पी लेने से दिल को शक्ति मिलती है, दिमाग तेज हो जाता है, विशेष रूप से दिमागी काम करने वाले के लिए बहुत लाभदायक है।

स्त्री रोगों के लिये

नारी के गुप्तांगों में जलन के लिए आंवले का रस निकालकर उसमें थोड़ी चीनी मिला लें हर रोज सुबह उठकर आधा गिलास पीने से यह रोग जाता रहेगा।

सुन्दरता के लिए

सूखे आंवले को बारीक पीस (कूट) कर, उसे कपड़े में या छलनी में छानकर आटे की भाँति गूंथकर, रोज रात को सोते समय मुँह पर लेप करें । सुबह उठकर उसे साबुन से धो लें । बस इससे आपका रूप निखर आएगा । चेहरा मुलायम रेशम की भाँति होकर चमकेगा।

सफेद पानी (श्वेत प्रदर)

सफेद पानी का रोग औरतों के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही हानिकारक माना गया है । इस रोग के कारण औरतें जवानी में ही बूढ़ी नजर आने लगती हैं । उन्हें कमर दर्द हर समय रहता है कमजोरी अधिक होने के कारण किसी काम में मन ही नहीं लगता । धीरे- धीरे यह रोग टी.बी. रोग की ओर ले जाता है । इसलिए इस रोग का उपचार गम्भीरता से करें- सूखे आंवले कूट पीसकर बारीक कपड़े या छलनी में छान लें । तीन ग्राम इस चूर्ण को लेकर एक चम्मच शहद में मिलाकर रोज सुबह उठकर चालीस दिन तक सेवन करने से इस रोग से मुक्ति मिल जाती है । परहेज-किसी प्रकार की गर्म चीज का प्रयोग न करें।

हाई ब्लड प्रेशर के लिए

हर रोज सुबह उठकर आंवले के मुरब्बे के दो नग खाने से यह रोग ठीक हो जाता है ।

शूगर (मधुमेह) के लिए

ताजे आंवले का रस तीन बड़े चम्मच लेकर उसमें एक चम्मच शहद मिलाकर चालीस दिन तक पीने से शूगर रोग से नर-नारी दोनों ही मुक्ति पा लेते हैं ।

बालों का झड़ना रोकने के लिए

सूखें आंवले रात को पानी में भिगो दें और सुबह उठकर उस पानी से बालों को धोने से (साठ दिन तक) बालों का झड़ना रूक जाता है । बाल काला करें सफेद बालों से आज तक सब लोग चिंतित हैं । आपकी यह चिंता दूर हो सकती है । मेंहदी और सूखा आंवला पीसकर इसे पानी में गूंथ कर पतला लेप बनाकर रात को बालों पर लगाकर सो जाएँ । सुबह उठकर उन्हें धो दें तो आपके बाल काले नजर आयेंगे ।

गर्भावस्था की उल्टियाँ मे

इस हालत में औरतों का उल्टी आना कोई रोग तो नहीं माना जाता परन्तु जब अधिक मात्रा में उल्टी आने लगें तो समझ लें कि यह रोग है । ऐसी हालत में आंवले के मुरब्बे के दो पीस हर रोज सुबह उठकर खाने से यह रोग समाप्त हो जाता है ।

गठिया रोग के लिये

एक गिलास ताजा पानी, 25 ग्राम सूखे आंवले बारीक पिसे हुये और 25 ग्राम गुड़ इन सबको मिलाकर चालीस दिन तक दिन में दो बार सेवन से गठिया रोग समाप्त हो जायेगा ।

पत्थरी

सूखे आंवले को कूट पीसकर उसका चूर्ण बनाकर मूली के रस में मिलाकर चालीस दिन तक रोगी को खिलाने से पत्थरी रोग से मुक्ति मिल जायेगी ।

नकसीर

सूखे आंवले को रात को पानी में भिगोकर रख दें और सुबह उठकर उस पानी से सिर को एक मास तक धोते रहें । साथ ही आंवले का मुरब्बा खायें यह रोग ठीक हो जायेगा ।

दाँतो का कीड़ा और दर्द

कई बार दाँतों में कीड़ा लगने के कारण उनमें काफी दर्द होने लगता है, ऐसे रोगी के लिए आंवले के रस में थोड़ा सा कपूर मिलाकर उसका लेप मसूड़ों पर करने से दाँत का दर्द ठीक हो जायेगा तथा कीड़े मर जायेंगे।

खांसी

पिसे हुए आंवले को एक चम्मच शहद में मिलाकर खांसी के रोगी को खिलाने से यह रोग ठीक हो जाता है ।

कब्ज

कब्ज को सब बीमारियों की माँ कहा जाता है । इस लिए कब्ज के रोगी चौकस होकर यह उपचार करें । रात को सोते समय पिसे हुए आंवले का चूर्ण एक गिलास गाय के दूध के साथ सेवन करने से कब्ज दूर हो जायेगी।

खूनी बवासीर

सूखे आंवलों को कूट, पीसकर उनका चूर्ण तैयार करके एक-एक चम्मच सुबह शाम दो मास तक, गाय के दूध या छाछ के साथ सेवन करने से इस भयंकर रोग से मुक्ति पा सकते हो । गर्म चीजें खाना बिल्कुल बन्द कर दें।

दिल का दौरा

बढ़ते हुए हृदय रोगों से आज तक बहुत लोग चिन्तित हैं इसलिए उन रोगियों के लिए नुस्खा उपयोगी रहेगा

  1. पिसा हुआ आंवला एक चम्मच गाय के दूध के साथ सुबह-शाम दो बार सेवन करने से दिल का रोग ठीक हो जायेगा।
  2. सूखे आंवले का चूर्ण एक चम्मच मिश्री के साथ मिलाकर सुबह शाम सेवन करने से हृदय रोग ठीक हो जाता है ।
  3. आंवले का मुरब्बा, दो नग हर रोज सुबह गाय के दूध के साथ सेवन करने से भी हृदय रोग ठीक हो जाता है।

पेचिश तथा संग्रहणी रोग

सूखा आंवला और काला नमक बराबर मात्रा में लेकर आंवलों को पानी में भिगोकर रखें । जब वे मुलायम हो जाएँ तो उनमें काला नमक मिलाकर बारीक पीस लें फिर उनकी छोटी-छोटी गोलियाँ बनालें । इन गोलियों को धूप में सुखा लें । हर रोज सुबह-शाम भोजन लें के आधे घंटे पश्चात् एक-एक गोली रोगी को खिलाने से यह रोग ठीक हो जाता है। गर्म और भारी खाने से दूर रहें, हल्का भोजन ही खायें, सुबह-शाम सैर को निकलें।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सकीय सलाह का विकल्प नहीं है । इनको केवल जानकारी के रूप में लें । इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.