Tue. Sep 27th, 2022

आम एक ऐसा स्वादिष्ट फल हैकि इसका नाम लेते ही मुँह में पानी भर आता है । इसके सेवन से सारे कष्ट सारेरोग दूर हो जाते हैं तथा शक्ति की प्राप्ति होती है । आम के वृक्ष बहुत बड़े होते हैं । मार्च-अप्रैल में इस वृक्ष पर फूल आते हैं । मई-जून में इसे फल लगते हैं ।

गुण तथा उपचार

  • लू लगने पर आम के पत्तों का रस निकालकर रोगी को पिलायें तो रोगी ठीक हो जायेगा ।
  • कच्चे आम का आचार डाला जाता है जिसे पूरे विश्व में लोग बड़े चाव से खाते हैं । यह स्वास्थ्य के लिये अति लाभकारी है।
  • पका हुआ आम चूसने से शरीर में नयी शक्ति पैदा होती है । आम का रस पीने से कई रोग दूर हो जाते हैं ।
  • इसकी गुठली का प्रयोग अतिसार, रक्तातिसार, सर्दी एवं ज्वर में किया जाता है ।
  • पके हुए आम में विटामिन सी, कार्बोहाइट्रेडस, कैल्सियम, खनिज तत्व, फास्फोरस, लौह, एस्कोर्बिक एसिड, ग्लुकोज आदि तत्व पाये जाते हैं ।

आम द्वारा रोगों का इलाज

मर्दानी कमजोरी

मर्दाना कमजोरी के कारण बहुत लोग चिंतित होकर भटक रहेहैं । ऐसे लोगों के लिए हर रोज कसैले रस वाले आम सुबह उठकरचूसने से आपका वीर्य बढ़ेगा और गाढ़ा भी हो जाएगा जिससे आपकेशरीर में नयी शक्ति आ जाएगी ।

बवासीर तथा पेचिश

मीठे आम का एक बड़ा चम्मच रस, आधा चम्मच दही, अदरकका रस आधा चम्मच लेकर तीनों को मिलाकर रोगी को सुबह शाम देने से एक मास में बवासीर ठीक हो जाएगी तथा पेचिश रोग से मुक्ति मिलेगा ।

पाचन शक्ति बढ़ाने के लिए

जिस प्राणी की पाचन शक्ति ठीक न हो उसका स्वास्थ्य भीकभी ठीक नहीं रह सकता । आम हमारी पाचन शक्ति का सब सेबड़ा सहयोगी है । आम चूसने के पश्चात् ऊपर से दूध पीने केपश्चात् अंतड़ियों को शांति मिलती हैं। मैंगो शेक पीने से कब्ज दूरहो जाती है । रोज सुबह उठकर एक गिलास मीठे आम का रस दोचम्मच सौंठ पिसी हुई डालकर पीने से पेट के सब रोग दूर हो जाते हैं।

दिमागी कमजोरी

आम का रस एक कप, चौथाई कप दूध, एक चम्मच अदरकका रस, एक चम्मच चीनी इन सबको मिलाकर हर रोज सुबह उठकरपीने से दिमागी कमजोरी दूर हो जाती है, सिर का पुराना दर्द ठीक होजाता है, शरीर में चुस्ती आ जाती है ।शूगरआम और जामुनके रस को मिलाकर सुबह उठकर एक मासतक पीने से शूगर रोग ठीक हो जाता है ।

गुर्दे की कमजोरी

मानव शरीर में गुर्दे ऐसा अंग है जिनके खराब हो जाने पर इन का कोई उपचार नहीं है, इसलिए आप कभी भी अपने गुर्दों कोकमजोर न होने दें। गुर्दों की शक्ति के लिए आप हर रोज सुबहउठकर आम चूसना शुरु कर दें। बस फिर क्या है आपके गुर्दे अतिशक्तिशाली हो जायेंगे ।

नपुंसकता

नपुंसकता उपचार के नाम पर सबसे अधिक लोगों को ठगाजाता है । इसलिए विशेष रूप से इस वहम के शिकार युवकों को मैंयही कहूँगा कि वे आम अथवा आम से बनी चीजें का सेवन न करेंखास कर अमचूर से दूर रहें। वे ताजा आमों का रस गाए के दूध केसाथ ले सकते हैं। इस से उनकी खोई हुई शक्ति फिर से वापस आ जायेगी ।

हैजा

हैजा रोग कभी-कभी जान लेवा भी सिद्ध होता है। ऐसे रोगियोंके लिए 25 से 30 ग्राम तक आम के पत्ते कूट पीसकर एक गिलासपानी में उबाल लें । जब पानी आधा रह जाए तो उसे छान कर हल्कागर्म रहने पर हैजे के रोगी को पिला दें। इससे लाभ होगा । हैजे केलिए सब से आपात तथा गुणकारी दवाई यही है ।

पायेरिया

इन्सान के दाँत गए तो उसका सारा स्वाद गया । इस बात को याद रखते हुए यह मत भूलें कि पायेरिया दाँतों को खा जाता है । इस
रोग का उपचार यह है कि- आम की गुठली की गिरी को निकालकर उसे बारीक पीसकर मंजन के तौर पर दाँतों पर हर रोज मलने से पायेरिया रोग ठीक हो जाता है !

पथरी रोग

पथरी रोग का नाम लेते ही इसके रोगी को पूरा शरीर डर के मारेकाँपने लगता है, परंतु इसमें घबराने की कोई बात नहीं है। आप आम के पत्तों को छाया में सुखाकर उन्हें बारीक कूट पीसकर छान लें। इसचूर्ण को एक चम्मच तांबे के बर्तन में रखे पानी के साथ सुबहउठकर पी लें तो पथरी रोग ठीक हो जाएगा ।

आँखों के रोग

आंखें हैं तो जहान है । इस लिए आँखों के रोगों के बारे में पहले से ही चौकस रहें । आम खाने से आँखों की लाली चली जाती है । आँखों की सूजन भी कम हो जाती है ।

तिल्ली का सूजन

70 ग्राम आम का रस 15 ग्राम शहद में मिलाकर हर रोज सुबह चार सप्ताह तक पीने से तिल्ली का रोग ठीक हो जाता है ।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सकीय सलाह का विकल्प नहीं है । इनको केवल जानकारी के रूप में लें । इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.