Tue. Sep 27th, 2022

उम्र के साथ बालों का सफेद होना आम बात है। लेकिन जब कम उम्र में बाल सफेद होने लगते हैं तो यह एक समस्या बन जाती है। जैसे-जैसे हम उम्र देते हैं, शरीर में मेलेनिन का उत्पादन, जो बालों को रंग देता है, धीमा हो जाता है। उम्र बढ़ने के साथ शरीर में मेलेनिन का उत्पादन कम हो जाता है और बाल सफेद होने लगते हैं। लेकिन अगर कम उम्र में बाल सफेद हो रहे हैं तो समझ लेना चाहिए कि शरीर में जरूरी पोषक तत्वों की कमी हो सकती है। साथ ही कम उम्र में सफेद बाल भी इस बात का संकेत हो सकते हैं कि शरीर में कोई बीमारी धीरे-धीरे विकसित हो रही है।

कम उम्र में बाल सफेद होनेका कारण

वंशाणुगत

वंशानुगत कारण से कम उम्र में सफेद बाल भी होते हैं। बालों का सफेद होना कम उम्र से ही बालों को रंग देने वाले तत्व में आनुवंशिक कमी के कारण होने वाली समस्या है।

खानपान

अब हमारा खान-पान बहुत बदल गया है। घर में उपलब्ध ताजा भोजन, फल और सब्जियों की जगह जंक फूड और पैकेट फूड का सेवन बढ़ गया है। नतीजतन, हमारे शरीर को पर्याप्त मात्रा में विटामिन और प्रोटीन नहीं मिलता है और बाल सफेद हो जाते हैं। प्रोटीन, विटामिन और आयरन की कमी से भी बाल सफेद होने लगते हैं।

धूम्रपान

कई शोधों में पाया गया है कि धूम्रपान का संबंध कम उम्र में बालों के सफेद होने से भी है। क्योंकि धूम्रपान या तंबाकू उत्पाद रक्त वाहिकाओं को संकरा कर देते हैं और बालों की जड़ों तक पर्याप्त रक्त नहीं पहुंच पाता है। कम उम्र में बाल सफेद होने का कारण भी यही होता है।

तनाव

तनाव शरीर के साथ-साथ बालों को भी नुकसान पहुंचाता है। तनाव के कारण मेलेनोसाइड को नष्ट करने वाले रसायनों का उत्पादन होता है, जिससे बाल सफेद हो जाते हैं। तनाव के कारण अनिद्रा, चिंता, भूख न लगना, उच्च रक्तचाप जैसी समस्याएं भी हो सकती हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि जो लोग बहुत अधिक तनाव में होते हैं उनके बाल समय से पहले सफेद होने लगते हैं।

बालों को कलर करना और स्ट्रेट करना भी है कारण

आजकल बालों को कलर करने और स्ट्रेट करने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस वजह से कम उम्र में ही बालों के सफेद होने की समस्या सामने आ गई है। कलरिंग और स्ट्रेटनिंग से भी बाल खराब हो सकते हैं।

शरीर में आवश्यक रसायनों की कमी

बायोटिन, विटामिन बी-12 और शरीर के लिए आवश्यक अन्य रसायनों की कमी से भी कम उम्र में बाल सफेद हो सकते हैं। बालों का सफेद होना कई तरह की बीमारियों के कारण भी हो सकता है।

अगर कोई बच्चा कुपोषित है तो उसे भी सफेद बालों की समस्या होती है। इसी तरह थायराइड, ऑटोइम्यून डिजीज और डिप्रेशन के कारण भी यह समस्या हो सकती है।

बालों को समय से पहले सफेद होने से रोकने के उपाय

  • संतुलित और पौष्टिक भोजन करना। भोजन में प्रोटीन, विटामिन, आयरन और अन्य तत्वों को शामिल करें
  • विभिन्न विटामिन की खुराक लेना
  • नियमित योग और व्यायाम
  • धूम्रपान नाकारे
  • तनाव न करें
  • खूब सारे ताजे फल और सब्जियां खाएं

इलाज

सफेद बालों की समस्या का कोई इलाज नहीं है। लेकिन अगर 30 साल से कम उम्र के लोगों को ऐसी कोई समस्या है, तो कैल्शियम पैंटोथेनेट की गोलियों का सेवन किया जा सकता है। डॉक्टर की सलाह के अनुसार बालों का सफेद होना कम करने के लिए जैल और स्प्रे का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

चूंकि बालों के सफेद होने की समस्या का कोई पूर्ण इलाज नहीं है, इसलिए बालों को रंगने की प्रथा लंबे समय से चल रही है। लेकिन अगर बहुत सारे बाल सफेद हो गए हैं, तो आपको इसके लिए किसी विशेषज्ञ डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

Disclaimer: यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सकीय सलाह का विकल्प नहीं है । इनको केवल जानकारी के रूप में लें । इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.